हर अधूरी पहल में छिपा है…

person taking photo with his cellphone
Photo by Vlada Karpovich on Pexels.com

हर अधूरी पहल में छिपा है
कोई मुकर्रर अंजाम भी
शर्त है पहले बेशुमार कोशिशें तो करना सीख लो

मिल जाएगा अधूरे सफ़र को
कोई मुकम्मल मुक़ाम भी
शर्त है पहले राह की दुश्वारियाँ तो झेलना सीख लो

पूरी होंगी वो हसरतें भी
जो बादलों में उड़ने की हैं
शर्त है पहले हवाओं का रूख़ समझना तो सीख लो

चुन लेना वो नायाब मोती
जो कहीं सागर में है छिपा
शर्त है पहले पानी में गहरे उतरना तो सीख लो

दिल की गहराईयों में
जैसे हो कोई नग़मा छिपा
शर्त है गाने से पहले गुनगुनाना तो सीख लो

मिल जाएगा वो भी कभी
जिसकी तुम्हें तालाश है
शर्त है दूसरों से पहले ख़ुद को पाना तो सीख लो

जिंदगी के तजुर्बों में मिलेंगे
कुछ सवालों के जवाब भी
शर्त है तजुर्बों से पहले ठोकरें खाना तो सीख लो

बातों के मकसद में छिपा है
बातों का अंजाम भी
शर्त है अंजाम से पहले बातों को परखना तो सीख लो..
© abhishek trehan

पिता…

कभी बादल जैसा बरस रहा
कभी ख़ामोश गहरा समंदर है
कभी पिता है छांव पीपल की
कभी पिता ही नीला अंबर है

नादान परिंदे क्या जानें
हँसता हुआ पिता भी टूटा अंदर है
उसका दिल भी मोम सा नाज़ुक है
फिर भी हर पिता मजबूत सिकंदर है

उन पर ख़ुदा की नेमत है
जिनके सिर पे पिता का साया है
ज़िदंगी है धूप जेठ महीने की
पिता नीम की शीतल छाया है

नासमझ हैं वो,जो परख रहे
उस पिता की बेइंतहा कुर्बानी को
जिसने ख़ुदा से बस यही दुआ है की
माफ़ करना बच्चों की हर नादानी को

मुझसे शुरू होकर,मुझ पर ख़त्म हुई
मेरे पिता की यही कहानी है
होगें लाख चाहने वाले मेरे दुनिया में
नहीं मेरे पिता का कोई सानी है

जब खोया तुम्हें तब पता चला
दुनिया कितनी सूखी और बंजर है
लोग ढूँढ़ते हैं तुम्हें अब तस्वीरों में
मुझे दिखता उसमें मेरा पैंगम्बर है…

© trehan abhishek