ग़ौर करो अगर तो हर चीज़ का है मतलब

ग़ौर करो अगर तो,

हर चीज़ का है मतलब,

ना समझो अगर तो,

हर चीज़ है फ़साना।

पुरानी होकर भी,

कभी बदलती नहीं हैं,

बातें कुछ नयी हैं,

मतलब है वही पुराना।

उठती है निगाह जिधर भी,

दिखता है एक साया,

मिलता है जो नहीं क्यों,

उसका है दिल दीवाना।

है रिवायत अजब इश्क की,

है अजीब ये फ़साना,

पाया नहीं है जिनको,

उन्हें खोने का है बहाना।

जब से चले गए हो,

जिंदगी ठहर गई है,

ना जीत का है मतलब,

ना हारने का है बहाना।

जीने को जी रहे हैं,

जिंदगी तेरे बिना भी,

सबकुछ सीख लिया है,

बस सीखा नहीं तुम्हें भुलाना।

Leave a Reply