मन

महान मनोवैज्ञानिक फ्रायड ने अपनी आत्मकथा में एक घटना का उल्लेख किया है उन्होंने लिखा है कि एक बार वह अपनी पत्नी और छोटे बच्चे के साथ घूमने के लिए एक बगीचे में गए सर्दियों के दिन थे और बगीचा बहुत ही मनोरम था वे वही घास पर बैठ गए और अपनी पत्नी से बात करने लगे वह बातचीत में इतना मशगूल हो गए कि पास में खेल रहा उनका बच्चा कहां चला गया इसकी उन्हें भनक तक नहीं लगी।

शाम के समय जब बगीचा बंद होने को हुआ तो उनकी पत्नी को ख्याल आया कि उनके पास में बच्चा खेल रहा था वहां पर नहीं है उन्हें बड़ी चिंता हुई कि इतने बड़े बगीचे में वह छोटा बच्चा ना जाने कहां होगा उसे कहां पर ढूंढा जाए यह सोचकर वह परेशान होने लगीं।

उन्हें परेशान देखकर फ्राइड ने कहा चिंता मत करो बस मेरे एक प्रश्न का उत्तर दो उन्होंने अपनी उन्होंने अपनी पत्नी से पूछा तुमने इस बगीचे में आने के बाद बच्चे को क्या करने से मना किया था?

उनकी पत्नी ने उत्तर दिया मैंने उससे कहा था यहीं आसपास खेलना और फव्वारे के पास अकेले मत जाना। फ्राइड ने कहा यदि तुम्हारे बच्चे में थोड़ी सी भी अक्ल है तो वह फव्वारे के पास जरूर मिलेगा। यह सुनकर उनकी पत्नी हैरान रह गई वे दोनों दौड़े-दौड़े हमारे के पास गए तो उन्होंने देखा वहां उनका बेटा फव्वारे के पास पैर लटकाए है बैठा है और पानी के साथ खेल रहा है।

फ्रायड की पत्नी ने कहा यह आश्चर्यजनक है तुमने कैसे जान लिया हमारा बेटा यहां होगा फ्रायड ने कहा इसमें आश्चर्य जैसा कुछ भी नहीं है मन को जहां जाने से रोका जाता है मन वही जाने के लिए आकर्षित होता है। जब मन से कहा जाता है यहां मत जाना तो उसके भीतर एक छिपा हुआ रहस्य शुरू हो जाता है और मन वही जाने के लिए तत्पर हो जाता है।

फ्रायड ने कहा यह आश्चर्य नहीं है कि मैंने हमारे बेटे का पता लगा लिया बल्कि इससे कहीं ज्यादा आश्चर्यजनक किया है कि मानव जाति आज तक इस छोटी सी बात को समझ नहीं पाई है और इस छोटे से सूत्र को जाने बिना जीवन का कोई रहस्य अभी उद्घाटित नहीं होता है।

इस छोटे से सूत्र को न समझ पाने के कारण मनुष्यों ने अपने समाज की सारी व्यवस्था, सारी रीति और नीति नियम और कानून संप्रेशन अर्थात दमन की नीति के आधार पर बना रखा है। यहां हर कोई एक-दूसरे को दबाने और काबू करने में ही अपनी सफलता के सूत्र खोज रहा है। यही उनके असंतोष, अवनति और अशांति का मुख्य कारण है।

Leave a Reply