जिसके मन में बुद्ध हैं…

buddha statue
Photo by David Bartus on Pexels.com

जिसके मन में बुद्ध हैं
वो कभी पाप नहीं करता
जिसका मन अशुद्ध है
वो गलतियों पर विचार नहीं करता

शास्ता रहमत ऐसी करो
मन के सब विकार मिट जाएँ
वासनाओं में छिपा काँटा
किसी का इंतज़ार नहीं करता

अंहकार जब मिटेगा
तब गलतियाँ दिखाई देंगी
प्रभू राह तुम दिखा दो
मैं चलने से इन्कार नहीं करता

जाने कब मिल जाए किसी को
किस मोड़ पे रोश्नी
सिर्फ किताबों को पढ़कर
कोई समझदार नहीं बनता

वैसे तो होते हैं
बातों के बहुत मतलब
जब भेदती हैं तेरी नज़रें
कोई अल्फाज़ नहीं मिलता

रहता है तेरा मालिक
साथ तेरे हमेशा
शर्तें तुम हटा लो
बुद्ध व्यापार नहीं करता…
© abhishek trehan

Leave a Reply