आँखों से कह दो तुम अपनी रज़ा को…

आँखों से कह दो तुम अपनी रज़ा को,

दुनिया सब बातों में वजह ढूंढ़ती है,

इबादत को नहीं है वजह से कोई मतलब,

दुनिया ख़ुदा को बेवजह ढूंढ़ती है।

उड़नें में कोई बुराई नहीं है,

उड़ानें भी आसमानों की पनाह ढूंढ़ती हैं,

हवाओं का रूख ही काफी नहीं है

मंज़िलें भी रास्तों के निशां ढूंढ़ती हैं।

बातों में चेहरे हैं या चेहरों में बातें हैं,

रातें भी अँधेरों में जगह ढूंढ़ती हैं,

अँधेरों की अलग से कोई हस्ती नहीं है,

लंबी रातें भी अपनी सुबह ढूंढ़ती हैं।

डरने की कोई जरूरत नहीं है,

अनहोनी भी होने की वजह ढूढंती है,

जो होना है वो तो होकर रहेगा,

दूसरों के मातम में दुनिया गुनाह ढूंढ़ती है।

पहुँचेगा कहाँ तक ये कहना मुश्किल ज़रा है,

मँज़िलें है जिद्दी और मुश्किल हवा है,

किस्मत से उलझने की आदत है पुरानी,

कोशिशों के बिना ज़िदंगी बेवजह है।

भाग रही है परछाई के पीछे,

वक्त की रेत पर पैरों के निशां ढूंढ़ती है,

क्या दिल का धड़कना ही काफी नहीं है,

क्यों ज़िदंगी दूसरों में जीने की वजह ढूंढ़ती है…

© abhishek trehan

Leave a Reply